Skip to content

Bharat – ek bhavnatmak rishta

July 8, 2011

जब सिपाही गोली लगने पर आखरी साँसे लेते हैं
जब वो फ़तेह के लिए अपना खून पसीना देते हैं
जब छोटे बच्चों को देश के गीत सिखाए जाते हैं
तब “भारत माता की जय” क नारे लगाए जाते हैं

जब देश का राष्ट्र गान गया जाता है
तब एक उत्सव मनाया जाता है
जब अपनी मात्र भाषा को उपयोग किया जाता है
तब भारत नाम का ही प्रयोग किया जाता है

क्या आप कहेंगे ‘मेरा इंडिया महान”
“इंडिया भाग्य विधाता” क्या होगा आपका राष्ट्र गान
क्या आपको नही लगता भारत है हमारा सम्मान
तो क्यों नही है सिर्फ़ यही हमारी औपचारिक पहचान

माने या ना माने पर ये एक हक़ीक़त है
कि इस नाम मे छिपी है हमारी प्रतिष्ठा
ये हम नही कहते, पूछिए अपने दिल से, जो कहेगा
कि इसी नाम से है हमारा भावनात्मक रिश्ता
कि इसी नाम से है हमारा भावनात्मक रिश्ता

जयभारत

For those who can’t read Hindi

Jab sipahi goli lagne par aakhri sanse lete hain,
Jab wo fateh k liye apna khoon pasina dete hain,
Jab chote bachon ko desh k geet sikhaye jaate hain,
Tab “BHARAT mata ki Jai” k nare lagaye jaate hain.

Jab desh ka rashtra gaan gaya jata hai,
Tab ek utsav manaya jaata hai,
Jab apni matra bhasha ko upyog kiya jaata hai
Tab BHARAT naam ka hi prayog kiya jaata hai.

Kya aap kahenge ‘MERA INDIA MAHAAN”
“India Bhagya Vidhata” kya hoga aapka rashtra gaan
Kya aapko nahi lagta BHARAT hai humara sammaan
To kyu nahi hai sirf yahi hamari aupcharik pehchaan.

Maane ya na maane par ye ek haqeeqat hai
K is naam me chipi hai humari pratishtha
Ye hum nahi kehte, poochiye apne dil se, Jo kahega
Ke isi naam se hai humara bhavnatmak rishta

Ke isi naam se hai humara bhavnatmak rishta

JAI BHARAT

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.