Skip to content

Jeevan aur Maut Me Antar

March 30, 2011

जीवन और मृत्यु मे अंतर है इतना
मृत्यु मे शहद रूपी रस है जितना
जीवन तो एक अभिशाप है
उसमे तो रस नही है इतना

जीवन मे मनुष्य कुछ पाता है कुछ खोता है
इस सब के बाद वो हंसता है या रोता है
परंतु मृत्यु मे पूर्णतया समाने से
वो एक शांत गहरी नींद सोता है

जीवन मे मनुष्य तेज़ी से होता है अमीर या ग़रीब
जिस तेज़ी से इस जग मे चलती है समीर
मृत्यु आने पर दिखाता है जो वीरता
वो प्राप्त करता है बहुमुल्य अमरता

जीवन जीने का नही मरने का नाम है
मृत्यु मरने का नही जीने का नाम है
परंतु मृत्यु की अमरता प्राप्त करने के लिए
अच्छे कार्य करना ही मनुष्य का काम है

हे मनुष्य तू मृत्यु से डरकर क्यों मूर्खता दिखता है
याद रख के भगवान जीवन के साथ मृत्यु भी बनता है
ये जीवन तो एक सपना है
पर मृत्यु को तो सबने प्राप्त करना है

अपना-पराया तेरा मेरा
इन शब्दो का होता है जीवन मे प्रयोग
पर मृत्यु प्राप्त करने से
मनुष्य का होता है भगवान से संयोग

For those who can’t read Hindi

Jeevan aur mrityu me antar hai itna
Mrityu me shahad rupi ras hai jitna
Jeevan to ek abhishap hai
Usme to ras nahi hai itna

Jeevan me manushya kuch paata hai kuch khota hai
Is sab ke baad wo hansta hai ya rota hai
Parantu mrityu me poorntaya samaane se
Wo ek shaant gehri neend sota hai

Jeevan me manushya tezi se hota hai ameer ya gareeb
Jis tezi se is jag me chalti hai sameer
Mrityu aane par dikhata hai jo veerta
wo prapt karta hai bahumulya amarta

Jeevan jeena ka nahi marne ka naam hai
Mrityu marne ka nahi jeene ka naam hai
Parantu mrityu ki amarta prapt karne ke liye
Ache karya karna hi manushya ka kaam hai

He manushya tu mrityu se darkar kyu murkhta dikhata hai
Yaad rakh ke bhagwan jeevan ke saath mrityu bhi banata hai
Ye jeevan to ek sapna hai
Par mrityu ko to sabne prapt karna hai

Apna-paraya tera mera
In shabdo ka hota hai jeevan me prayog
Par mrityu prapt karne se
Manushya ka hota hai bhagwan se sanyog

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.