Skip to content

Jiye Ja Rahe hain

March 1, 2011

ज़िंदगी तो रूठ गयी है हमसे
फिर भी हम जिए जा रहे हैं

बैठे हैं अपने गम मे शामिल होके
मौत का इंतेज़ार किए जा रहे हैं

बहुत कर चुके अब हम शोर
अब इन होटो को सिये जा रहे हैं

अपने गमो को भूलने की कोशिश करके
दूसरो को खुशी दिए जा रहे हैं

कभी हमने भी किया था किसी से बे-इंतेहा प्यार
आज यादों के आँसू पिए जा रहे हैं

अपनी ही तन्हाइयों मे कही डूबे हुए
बेशुमार सवालो की बौछार लिए जा रहे हैं

लगता है जैसे हम बन गये एक तमाशा
जिसे लोग देखकर हँसे जा रहे हैं

किस तरफ मैं जा रहा हू मैं नही जनता
शायद बर्बादी की ओर मेरे कदम बढ़े जा रहे हैं

एक दिन ऐसे ही मेरा अस्तित्व मिट जाएगा
जिस आवाज़ के तरानो को लोग सुना करते थे
वो तराना कहीं सुना नही जाएगा

लेकिन मुझे यकीन है कि वो मेरे जाने के बाद भी कहेंगे
कि ये तो बस पागलपन किए जा रहे हैं

ज़िंदगी तो रूठ गयी है हमसे
फिर भी हम जिए जा रहे हैं

For those who can’t read in Hindi

Zindagi to rooth gayi hai humse
Phir bhi hum jiye ja rahe hain

Baithe hain apne gham me shamil hoke
Maut ka intezaar kiye ja rahe hain

Bahut kar chuke ab hum shor
Ab in hoton ko siye ja rahe hain

Apne gamo ko bhoolne ki koshish karke
Doosro ko khushi diye ja rahe hain

Kabhi humne bhi kiya tha kisi se beinteha pyaar
Aaj yaadon ke aansu piye ja rahe hain

Apni hi tanhayion me kahi doobe hue
Beshumar sawalo ki bauchar liye ja rahe hain

Lagta hai jaise hum ban gaye ek tamasha
Jise log dekhkar hanse ja rahe hain

Kis taraf main ja raha hu main nahi janta
Shayad barbadi ki or mere kadam badhe ja rahe hain

Ek din aise hi mera astitva mit jayega
Jis awaaz k tarano ko log suna karte the
wo tarana kahi suna nahi jayega

Lekin mujhe yakeen hai ki wo mere jaane k baad bhi kahenge
Ki ye to bus pagalpan kiye ja rahe hain

Zindagi to rooth gayi hai humse
Phir bhi hum jiye ja rahe hain

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.