Skip to content

Kaash Koi Hota

March 16, 2011

कल मैने चाँद का दीदार किया
कुछ तकरार तो कुछ इक़रार किया
चाँद मे अपनी चाँदनी की तड़प देखकर दिल ने कहा

काश कोई होता

कल सूरज की तपन को महसूस किया
उसके अनकहे दर्द को अपने दिल मे महफूज़ किया
कल समझ मे आया के वो इतना जलता क्यों है
क्योंकि वो भी अकेला है और कह रहा है

काश कोई होता

कल पिंजरे मे एक नज़ारा देखा
एक जोड़ा और एक पंछी अनदेखा
उस पंछी की आँखो मे मानो एक सवाल था, जैसे कह रहा हो

काश कोई होता

कल एक विधवा को रोते देखा
अपना सब कुछ खोते देखा
ज़ोर ज़ोर से उसकी सिसकियो मे जैसे बस यही आवाज़ थी

काश कोई होता

कल एक अनाथ बच्चे से मुलाक़ात हुई
कुछ झिझक के बाद कुछ बात हुई
मुझमे जैसे उसे अपना भाई मिला हो
पर उसके होटो पर भी यही सवाल था

काश कोई होता

कल वृधाश्रम मे बहुत से अपने मिले
जिनके दिल मे दर्द आँखो मे सपने मिले
जिनके अपने उन्हे वस्तु समझकर फैंक चुके है
बस रह गया है तो सिर्फ़ एक सवाल

काश कोई होता

सबकी बात मैं करता हूँ
पर अब खुद का दीदार मैं करता हूँ
लो अब मैं अपनी कहता हूँ
पर कहना सिर्फ़ वही है

काश कोई होता

कुछ वक़्त पहले एक अंजाने चेहरे से मुलाक़ात हुई
जाने क्या बात थी उसमे तबीयत नसाज़ हुई
बस उसे देखकर दिल मे एक ही बात हुई

काश कोई होता

उसकी ज़ुल्फो मे कुछ अदा ऐसी थी
उसकी मुस्कुराहट मे कुछ सज़ा ऐसी थी
कि मैं उसका दीवाना हो गया
और अपनी तन्हाई से बोला

काश कोई होता

उसके होठों की वो नर्मी
उसकी सासों की वो गर्मी
वो एहसास लिख पाना मुश्किल है
बस लिख सकता हूँ तो सिर्फ़ ये

काश कोई होता

उसके गुलाबी होठों की वो रंगत
उसके साथ बिताए पलो की वो संगत
उसके प्यार जताने का वो फसाना
जिसने फिरसे छेड़ा मेरे मान का वही तराना

काश कोई होता

सोचा उसे दूँ कुछ उपहार
देनी चाही चूड़ियो की छंकार
जिन्हे पहन कर उसकी सूनी कलाई ये कहना छोड़ दे

काश कोई होता (भाव ये है कि कलाई और चूड़ीयाँ एक दूसरे के साथी है और कलाई भी तरस रही है चूड़ियो के लिए पर राइटर ये मान रहा है कि उसकी सूनी कलाई को भी हम सफ़र मिल जाएगा चूड़ियो के रूप में)

साथ मे लिया गुलाब का फूल
जिसे देकर मैं कर सकु कबूल
के मेरी तन्हाई को मिला है जवाब

काश कोई होता

उसकी वो सच्चाई, उसकी वो परछाई
मेरे दिलो दिमाग़ पे कुछ ऐसी छाई
सोचा के आज उससे कह ही दूँ कि

काश कोई होता

जैसे ही हिम्मत की और आगे बढ़ा
मिली शायद मुझे सबसे बड़ी सज़ा
वो अपनी मोहब्बत मे तड़पति हुई मुझसे बोल उठी

काश कोई होता

उसके प्यार की तड़प को मैं देख ना पाया
और मायूस होकर वापस लौट आया
और दिल मे फिरसे वही सवाल दोहराया

काश कोई होता

उसे उसकी मोहब्बत मिले
उसे उसका प्यार मिले
और ईश्वर से यही दुआ है कि वो कभी ये ना कहे

काश कोई होता

For those who can’t read Hindi

Kal maine chand ka deedar kiya
kuch takraar to kuch iqraar kiya
Chand me apni chandni ki tadap dekhkar dil ne kaha

KAASH KOI HOTA

Kal suraj ki tapan ko mehsoos kiya
Uske ankahe dard ko apne dil me mehfooz kiya
Kal samajh me aaya ke wo itna jalta kyu hai
Kyuki wo bhi akela hai aur keh raha hai

KAASH KOI HOTA

Kal pinjre me ek nazaara dekha
Ek joda aur ek pancchi andekha
Us panchi ki aankho me maano ek sawaal tha, jaise keh raha ho

KAASH KOI HOTA

Kal ek vidhwa ko rote dekha
Apna sab kuch khote dekha
Zor zor se uski siskiyo me jaise bus yahi awaaz thi

KAASH KOI HOTA

Kal ek anaath bache se mulaqat hui
Kuch jhijhak ke baad kuch baat hui
Mujhme jaise use apna bhai mila ho
Par uske hoto par bhi yahi sawaal tha

KAASH KOI HOTA

Kal vridhashram me bahut se apne mile
Jinke dil me dard aankho me sapne mile
Jinke apne unhe vastu samajhkar phaink chuke hai
Bus reh gaya hai to sirf ek sawaal

KAASH KOI HOTA

Sabki baat main karta hu
Par ab khud ka deedar main karta hu
Lo ab main apni kehta hu
Par kehna sirf wahi hai

KAASH KOI HOTA

Kuch waqt pehle ek anjaane chehre se mulaqat hui
Jaane kya baat thi usme tabiyat nasaaz hui
Bus use dekhkar dil me ek hi baat hui

KAASH KOI HOTA

Uski zulfo me kuch ada aisi thi
Uski muskurahat me kuch sazaa aisi thi
Ke main uska deewana ho gaya
Aur apni tanhai se bola

KAASH KOI HOTA

Uske hothon ki wo narmi
Uski saaso ki wo garmi
wo ehsaas likh pana mushkil hai
Bus likh sakta hu to sirf ye

KAASH KOI HOTA

Uske gulabi hothon ki wo rangat
Uske saath bitaye palo ki wo sangat
Uske pyaar jatane ka wo fasana
Jisne firse cheda mere man ka wahi taraana

KAASH KOI HOTA

Socha use du kuch uphaar
Deni chahi chudiyo ki chankaar
Jinhe pehenkar uski sooni kalaai ye kehna chod de

KAASH KOI HOTA (Bhaav ye hai k kalai aur chudiyan ek doosre ke saathi hai aur kalai bhi taras rahi hai chudiyo ke liye par writer ye maan raha hai k uski sooni kalayi ko bhi humsafar mil jayega chudiyo k roop me)

Saath me liya gulaab ka phool
Jise dekar main kar saku kabool
Ke meri tanhai ko mila hai jawaab

KAASH KOI HOTA

Uski wo sachai, uski wo parchai
Mere dilo dimaag pe kuch aisi chayi
Socha ke aaj usse keh hi du ke

KAASH KOI HOTA

Jaise hi himmat ki aur aage badha
Mili shayad mujhe sabse badi sazaa
Wo apni mohabbat me tadapti hui mujhse bol uthi

KAASH KOI HOTA

Uske pyaar ki tadap ko main dekh na paaya
Aur mayoos hokar wapas laut aaya
Aur dil me firse wahi sawaal dohraya

KAASH KOI HOTA

Use uski mohabbat mile
Use uska pyaar mile
Aur ishwar se yahi dua hai k wo kabhi ye na kahe

KAASH KOI HOTA

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.