Skip to content

Kya yahi pyaar hai

June 26, 2011

दिल की गहराई मे एक एहसास छिपा बैठा है
मन के भीतर एक ख़्वाब छिपा बैठा है
आज के प्यार से डरकर मायूस दिल मे एक सवाल है
क्या यही प्यार है?

आज का प्यार दो दिन का मेल है
एक के लिए प्यार दूजे के लिए खेल है
कहीं जिस्म की भूख तो कहीं लालच का फरेब है
ये तो अपने फाय्दे का व्यापार है
क्या यही प्यार है?

सुना था प्यार मतलब ‘दो जिस्म एक जान’
प्यार से बढ़कर एक दूसरे का मान सम्मान
पर आज का प्यार है बिल्कुल ही बेजान
बस झूठे सपने और अधूरे अरमान
बस अब तो ये उपर उपर का इक़रार है
क्या यही प्यार है?

डरता हूँ कही मेरा दिल मज़बूत ना बन जाए
इसके किसी कोने मे बसा प्यार कही थम ना जाए
कभी तो मैं देख सकु कि मेरी असल सोच ही साकार है
और सवाल की जगह कह सकु
‘हाँ यही प्यार है’

अपने सवाल के जवाब मे मैं भटकता रहा
थक हार कर बस खुद पर बरसता रहा
आकर माँ के आँचल मे सिर रख दिया
माँ ने कहा ‘बेटा आज सब्ज़ी क साथ तेरी मन-पसंद दाल है’
तभी दिल से आवाज़ आई
‘हाँ यही प्यार है’

जब भी बुरी आदतो ने शिकार बनाया
पिता ने अपना भयंकर अवतार दिखाया
पर जब वो मुझे बोले ‘पैदल मत जा मेरे पास कार है’
दिल ने कहा ‘हाँ यही प्यार है’

ससुराल से जब बहन पहली बार मिलने आई
एक अनोखे मंज़र को देख मेरी आँख भर आई
उसके सोने के गहनो मे मेरी वो पीतल की चेन आज भी बरक़रार है
तभी दिल ने कहा ‘हाँ यही प्यार है’

प्यार मे मैं तो जान देने चला था
पर पीछे पीछे एक शख़्स मेरा साथ देने चला था
मैने पूछा तू भी मेरी तरह इतना क्यों लाचार है
वो बोला ‘कम्बख़्त, तू ही तो मेरा इकलौता यार है’
दिल फिर से बोला ‘हाँ यही प्यार है’

जब कोई बच्चा मुझे देख कर मुस्कुराता है
जब कोई बुज़ुर्ग आशीर्वाद देकर सहलाता है
जब कोई कहता है ‘तू मेरे सपनो का आधार है’
दिल कहता है ‘हाँ यही प्यार है’

जब सूखे पत्तो की पुकार बादलो से घिर जाती हैं
तब एक अटूट बंधन की कड़ी नज़र आती है
जो सदियो से उनके मझधार है
और दिल कहता है ‘हाँ यही प्यार है’

जब धरती और गगन का मेल देखता हूँ
तो कुद्रट का अजीब खेल देखता हूँ
दोनो मिलकर भी कभी नही मिलते
पर दोनो के मिलन से ही ये संसार है
हाँ यही प्यार है

प्यार मे दिल बहुत रोया है
मैने अपना मान सम्मान सब कुछ खोया है
क्योकि हमारी एक कमी की वजह से हम उसके लिए बिल्कुल बेकार हैं
तब ये सवाल चुभता है ‘क्या यही प्यार है’?

पर तुम प्यार की राह ना छोड़ना
खुद से प्यार करते जाना, दिलो के तार ना तोड़ना
क्योकि यही भगवान और उसका भावनात्मक अवतार है
हाँ हाँ हाँ बस यही प्यार है

For those who can’t read Hindi

Dil ki gehrai me ek ehsaas chipa baitha hai
Man ke bheetar ek khwab chipa baitha hai
Aaj ke pyaar se darkar mayoos dil me ek sawaal hai
KYA YAHI PYAAR HAI?

Aaj ka pyaar do din ka mel hai
Ek ke liye pyaar dooje ke liye khel hai
Kahi jism ki bhookh to kahi laalach ka fareb hai
Ye to apne fayde ka vyapaar hai
KYA YAHI PYAAR HAI?

Suna tha pyaar matlab ‘DO JISM EK JAAN’
Pyaar se badhkar ek doosre ka maan sammaan
Par aaj ka pyaar hai bilkul hi bejaan
Bus jhoothe sapne aur adhoore armaan
Bus ab to ye upar upar ka iqraar hai
KYA YAHI PYAAR HAI?

Darta hu kahi mera dil mazboot na ban jaaye
Iske kisi kone me basa pyaar kahi tham na jaye
Kabhi to main dekh saku k meri asal soch hi sakaar hai
Aur sawaal ki jagah keh saku
‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Apne sawaal k jawaab me main bhatakta raha
Thak haar kar bus khud par barasta raha
Aakar maa ke aanchal me sir rakh diya
Ma ne kaha ‘Beta aaj sabzi k saath teri man-pasand daal hai’
Tabhi dil se awaaz aayi
‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Jab bhi buri aadato ne shikaar banaya
Pita ne apna bhayankar avtaar dikhaya
Par jab wo mujhe bole ‘PAIDAL MAT JA MERE PAAS CAR HAI’
Dil ne kaha ‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Sasural se jab behan pehli baar milne aayi
Ek anokhe manzar ko dekh meri aankh bhar aayi
Uske sone ke gehno me meri wo peetal ki chain aaj bhi barqaraar hai
Tabhi dil ne kaha ‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Pyaar me main to jaan dene chala tha
Par peeche peeche ek shaks mera saath dene chala tha
Maine poocha tu bhi meri tarah itna kyu lachaar hai
Wo bola ‘Kambakht, tu hi to mera iklauta yaar hai’
Dil fir se bola ‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Jab koi baccha mujhe dekh kar muskurata hai
Jab koi buzurg aashirwad dekar sehlata hai
Jab koi kehta hai ‘Tu mere sapno ka adhaar hai’
Dil kehta hai ‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Jab sookhe patto ki pukaar badalo se ghir jaati hain
Tab ek atoot bandhan ki kadi nazar aati hai
Jo sadiyo se unke majhdhaar hai
Aur dil kehta hai ‘HAN YAHI PYAAR HAI’

Jab dharti aur gagan ka mel dekhta hu
To kudrat ka ajeeb khel dekhta hu
Dono milkar bhi kabhi nahi milte
Par dono ke milan se hi ye sansaar hai
HAN YAHI PYAAR HAI

Pyaar me dil bahut roya hai
Maine apna maan sammaan sab kuch khoya hai
Kyuki hamari ek kami ki wajah se hum uske liye bilkul bekaar hain
Tab ye sawaal chubhta hai ‘KYA YAHI PYAAR HAI’?

Par tum pyaar ki raah na chodna
Khud se pyaar karte jaana, dilo ke taar na todna
Kyuki yahi bhagwan aur uska bhavnatmak avtaar hai
Han han han BUS YAHI PYAAR HAI

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.