Skip to content

Main apni zindagi badalte dekhta hu

January 15, 2012

पतझड़ का मौसम गुज़र गया
सब कुछ बिखरा सिमट गया
आज उम्मीदों के फूल खिलते देखता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

अब मुझे ज़िंदगी मे कोई खामी नज़र नही आती
कोई भी मुश्किल या परेशानी नज़र नही आती
इस बंजर ज़मीन पर अब फसल लगते देखता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

इस ज़िंदगी मे ना रूठना है ना मनाना है
ना दिल टूटने का दर्द ना अधूरी मोहब्बत का फसाना है
मैं अपने सारे गम अब तक़दीर को बेचता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

पंच्छियों का चहचाहाना मुझे अब शोर नही लगता
मेरा दिल मुझे अब कमज़ोर नही लगता
दूसरो की मोहब्बत जब मुक़म्मल होते देखता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

सपनो की दुनिया मे उड़ान भरना चाहता हूँ
खुद ही राजा और खुद ही आवाम बनना चाहता हूँ
अपने इन सपनो को मैं कही खोजता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

अपने पिता के कंधो का सहारा मैं बन सकु
अपनी मा की गोद का दुलारा मैं बन सकु
आज मैं खुद को इस मंज़र पर देखता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

ए खुदा तेरा-मेरा इश्क़ बहुत पाक है
तेरे बिना मेरी रूह, मेरा जिस्म बिल्कुल खाक है
बेमौसमी बरसात से जब मैं तुझे अपने लिए रोते देखता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

आपकी ज़िंदगी मे भी एक मीठा सा बदलाव आए
बहुत सारी खुशियो के साथ बे-हिसाब प्यार लाए
मैं दिल से आपको ये शुभ-कामनायें भेजता हूँ
मैं अपनी ज़िंदगी बदलते देखता हूँ

For those who can’t read Hindi

Patjhad ka mausam guzar gaya
Sab kuch bikhra simat gaya
Aaj umeedo ke phool khilte dekhta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Ab mujhe zindagi me koi khaami nazar nahi aati
Koi bhi mushkil ya pareshani nazar nahi aati
Is banjar zameen par ab fasal lagte dekhta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Is zindagi me na roothna hai na manaana hai
Na dil tootne ka dard na adhoori mohabbat ka fasaana hai
Main apne saare gham ab taqdeer ko bechta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Panchiyo ka chehchahana mujhe ab shor nahi lagta
Mera dil mujhe ab kamzor nahi lagta
Doosro ki mohabbat jab muqammal hote dekhta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Sapno ki duniya me udaan bharna chahta hu
Khud hi raaja aur khud hi awaam banna chahta hu
Apne in sapno ko main kahi khojta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Apne pita ke kandho ka sahara main ban saku
Apni maa ki God ka dulaara main ban saku
Aaj main khud ko is manzar par dekhta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Ae khuda tera-mera ishq bahut paak hai
Tere bina meri rooh, mera jism bilkul khaak hai
Bemausami barsat se jab main tujhe apne liye rote dekhta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Aapki zindagi me bhi ek meetha sa badlaav aaye
Bahut saari khushiyo ke saath be-hisaab pyaar laaye
Main dil se aapko ye shubh-kaamnayein bhejta hu
Main apni zindagi badalte dekhta hu

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.