Skip to content

Main Chup Raha

June 26, 2012

Inspired by a friend of my friend who actually faced this situation in real life. I got to know this story from a common friend and was so full of thoughts that I decided to write a poem on this. Though technically its not a very well phrased and composed poem but I hope it is liked by you all.

एक दिन मैने उससे कहा,
कि मुझे उससे प्यार है
वो बोली के उसे मुझसे प्यार नही
लेकिन हमारा साथ ज़िंदगी भर का साथ है
मैं चुप रहा

उसकी खुशी के लिए मैं उसके साथ रहा
पर कही ना कही मेरा भी कुछ स्वार्थ रहा
उसके बिन रह नही सकता था मैं
पर वो मेरी हो जाए ये कह भी नही सकता था मैं
इसलिए मैं चुप रहा

एक दिन वो बोली के उसे किसी से प्यार हो गया
उसके लिए खुश तो था, पर लगा जैसे सब बर्बाद हो गया
वो मेरी मुस्कुराहट से धोखे मे आ गई
और मेरी अश्क भरी आँखो से नज़रें चुरा गयी
मैं चुप रहा

आख़िर कार उसकी शादी तय हो गयी
मेरे अंदर जैसे जज़्बातो की आँधी की शुरू लय हो गयी
पर मैं कुछ नही कर सकता था
उसे दुआ देकर खुद सिर्फ़ मर सकता था
मैं चुप रहा

वो चाहती थी कि मैं उसे छोड़ ना सकूँ
अपने जीवन साथी से दोस्ती करवा दी ताकि मैं ये बंधन तोड़ ना सकूँ
ये दोस्ती मेरे लिए निभाना था मुश्किल
पर आज भी नही तोड़ सकता था मैं उसका दिल
इसलिए मैं चुप रहा

उसने बड़े चाव से शादी की मेहन्दी मुझे दिखाई
झूठी ही सही पर मैने भी दी उसे शादी की बधाई
पर मेरे दिल मे बढ़ती जा रही थी तन्हाई
दिलो दिमाग़ पे छाई थी उससे मिली रुसवाई
मैं चुप रहा

आख़िर कार वो दिन आया
जब उसने शादी का सुख पाया
काश मैं उसे रोक पता
और अपने दिल का हाल बोल पता
पर उसकी चाहत के लिए मैं खामोशी का बनकर बुत रहा
सिर्फ़ उसी के लिए मैं हमेशा चुप रहा

कभी मिलेगी तो उससे एक सवाल करूँगा
कि सिर्फ़ मेरे ही साथ ऐसा क्यों था
अगर मेरा साथ इतना ही अच्छा था
तो मैं सिर्फ़ एक दोस्त ही क्यों था
शायद वो मेरी ज़िंदगी की हक़ीक़त से भाग रही थी
खुद की ज़रूरतो के बीच मुझे एक अधूरे रिश्ते मे बाँध रही थी
ग़लती उसकी नही मेरी थी
मैं हमेशा कमज़ोर रहा
प्यार निभाते निभाते ये भूल गया
कि अब नही मर्द के आँसुओ का मोल रहा
मेरे आँसू और जज़्बात उसे मेरी कमज़ोरी लगे
उसके लिए मैं सिर्फ़ एक आने जाने वाली रुत रहा
और मेरी सबसे बड़ी खता यही रही
कि मैं सिर्फ़ और सिर्फ़ चुप रहा

For those who can’t read Hindi

Ek din maine usse kaha,
Ke mujhe usse pyaar hai
Wo boli ke use mujhse pyaar nahi
Lekin hamara saath zindagi bhar ka saath hai
Main chup raha

Uski khushi k liye main uske saath raha
Par kahi na kahi mera bhi kuch swaarth raha
Uske bin reh nahi sakta tha main
Par wo meri ho jaye ye keh bhi nahi sakta tha main
Isliye main chup raha

Ek din wo boli k use kisi se pyaar ho gaya
Uske liye Khush to tha, par laga jaise sab barbaad ho gaya
Wo meri muskurahat se dhokhe me aagayi
Aur meri ashq bhari aankho se nazare chura gayi
Main chup raha

Aakhir kaar uski shaadi tay ho gayi
Mere andar jaise jazbaato ki aandhi ki shuru lay ho gayi
Par main kuch nahi kar sakta tha
Use dua dekar khud sirf mar sakta tha
Main chup raha

Wo chahti thi k main use chod na saku
Apne jeevan saathi se dosti karva di taaki main ye bandhan tod na saku
Ye dosti mere liye nibhana tha mushkil
Par aaj bhi nhi tod sakta tha main uska dil
Isliye Main chup raha

Usne bade chaav se shaadi ki mehendi mujhe dikhai
Jhoothi hi sahi par maine bhi di use shaadi ki badhai
Par mere dil me badhti jaa rahi thi tanhai
Dilo dimag pe chayi thi usse mili rusvayi
Main chup raha

Aakhir kaar wo din aaya
Jab usne shaadi ka sukh paya
Kaash main use rok pata
Aur apne dil ka haal bol pata
Par uski chahat k liye main khamoshi ka bankar but raha
Sirf usi k liye main hamesha chup raha

Kabhi milegi to usse ek sawal karuga
K sirf mere hi saath aisa kyu tha
Agar mera saath itna hi acha tha
To main sirf ek dost hi kyu tha
Shayad wo meri zindagi ki haqeeqat se bhaag rahi thi
Khud k zaroorato k beech mujhe ek adhoore rishtey me baandh rahi thi
Galti uski nahi meri thi
Main hamesha kamzor raha
Pyaar nibhate nibhate ye bhool gaya
K ab nahi mard k aansuo ka mol raha
Mere aansu aur jazbaat use meri kamzori lage
Uske liye main sirf ek aane jaane waali rut raha
Aur meri sabse badi khata yahi rahi
K main sirf aur sirf chup raha

Comments

Tell us what do you think.

  1. Binod Rawani says: September 7, 2014

    Awesome lines yara…. tmhare labzo ne dil ko chhu liya, kahi mere labz tere dil ko na chhu le, isliye main chup raha, yun to tere mere darmiyaan kai baaten hui aisi, teri hasti khelti zindgi na tabaah kar de, isliye main chup raha :)

    I also write in my tanahaai wale tym me…u can c those stuff on my blog- http://www.lifeyaadein.binodrawani.com/
    also can connect with my Fb page- https://www.facebook.com/lifeyaadein

    • admin says: November 5, 2014

      Thanks my friend. Aapki haazir jawaabi ka jawaab nahi :)

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.