Skip to content

Mohabbat-e-Tanhai

August 3, 2011

इस अकेलेपन मे भी एक मज़ा है
पर कभी लगता है ज़िंदगी एक सज़ा है
मेरी ज़िंदगी है शायद दूसरो की दी हुई भीख
जिसका ना ही कोई मकसद, ना ही कोई दिशा है

इस तन्हाई के हैं बहुत से फ़ायदे
मानने नही पड़ते किसी के क़ायदे
कोई नही है ऐसा जो अपनी राय दे
और कोई नही जो मेरे जीने की वजह है

मैं सबका हूँ पर मेरा कोई नही
दोस्त दिल मे हैं पर उस दिल मे धड़कन नही
लहू बह रहा है आज भी दिल के टुकड़ो से
जिन्हे समेट कर रखने की भी नही कोई जगह है

पर सच तो ये है कि वो मेरे दिल मे आज भी है
शिक्वो के बीच मे बेशुमार मोहब्बत आज भी है
मैं उसके लिए खिलोना ही सही,
पर मेरे लिए तो वो ख़ास आज भी है
हक़ीक़त मे भले ना कर सकूँ
पर सपनो मे तो उससे प्यार आज भी है
सपनो मे उसकी आँखो के आँसू पीकर
उसे खुशियाँ दे सकूँ ये अरमान तो आज भी है
क्योकि उससे एक अटूट रिश्ता बन चुका है
जिसकी डोर शायद बँधी रहे,
ये उस भगवान की भी रज़ा है

For those who can’t read Hindi

Is akelepan me bhi ek mazaa hai
Par kabhi lagta hai zindagi ek sazaa hai
Meri zindagi hai shayad doosro ki di hui bheek
Jiska na hi koi maksad, na hi koi disha hai

Is tanhai ke hain bahut se fayde
Maanne nahi padte kisi ke kayde
Koi nahi hai aisa jo apni raay de
Aur koi nahi jo mere jeene ki wajah hai

Main sabka hu par mera koi nahi
Dost dil me hain par us dil me dhadkan nahi
Lahu beh raha hai aaj bhi dil ke tukdo se
Jinhe samet kar rakhne ki bhi nahi koi jagah hai

Par sach to ye hai ke wo mere dil me aaj bhi hai
Shikvo ke beech me beshumaar mohabbat aaj bhi hai
Main uske liye khilona hi sahi,
Par mere liye to wo khaas aaj bhi hai
Haqeeqat me bhale na kar saku
Par sapno me to usse pyaar aaj bhi hai
Sapno me uski aankho ke aansu peekar
Use khushiyan de saku ye armaan to aaj bhi hai
Kyuki usse ek atoot rishta ban chuka hai
Jiski dor shayad bandhi rahe,
Ye us bhagwan ki bhi razaa hai

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.