Skip to content

Muskaan

August 5, 2011

आज अपने आपको आईने मे निहरना
अपने रंग रूप को भले ही कुछ संवारना
पर एक ख़ास चीज़ भगवान ने दी है आपको ओ-मेहेरबान
जो शृंगार की नही मोहताज,वो है आपकी प्यारी सी मुस्कान

क्यूँ इसे दुखो के पर्स मे रखकर भूल जाते हो
लिपस्टिक की जगह क्यूँ इसे अपने होठों पर नही लगते हो
अरे ये तो समझो कि ज़िंदगी किसी की नही है आसान
हर इंसान जदो-जहद मे है, पाने के लिए ये मुस्कान

किसी को सेहत की है गंभीर परेशानी
तो किसी को है पैसो की खींचा तानी
किसी को एक भी नही मिलती तो किसी के लिए गर्लफ्रेंड बनाना है आसान
अरे इस सब बचपाने मे क्यूँ खो देते हो अपनी मुस्कान

किसी के पति ने एक्सट्रा मॅरिटल अफेर बनाया
बदले की भावना मे बीवी ने भी अपना धरम गवाया
मज़ाक हो रहा है या तू सच मे सीरीयस है इंसान ??
लगता है अभी कोसो दूर है तुझसे ये मुस्कान

किसी ने तुम्हारा दिल तोड़ा, तुम भी किसी का दिल तोडो
किसी ने तुम्हारा सिर फोड़ा, तुम भी किसी का सिर फोड़ो
बस मरने-मारने का ही बन गये हैं हम सामान
बेचारी पीछे रह गयी है हमारी प्यारी सी मुस्कान

लड़की ने दिल तोड़ा तो खुद-खुशी
रिज़ल्ट अच्छा ना आया तो भी खुद-खुशी
साला इस खुद-खुशी से तुझे मिलता तो है नही सुनेहरा जहाँ
बस छिन जाती है तो सिर्फ़ तेरे माँ-बाप के चेहरे की वो एक मुस्कान

देश मे हो रहे है चारो तरफ घोटाले
अंगूठा-छाप मंत्री के बेवकूफ़ भतीजे बन रहे हैं मंत्री साले
लुट रहा है चारो तरफ से अपना हिन्दुस्तान
इससे लॅडो पर इस राजनीति मे नही भूलना अपनी ये मुस्कान

हिम्मत है तो एक दिन उस बुज़ुर्ग से मिल
बच्चों से ठुकराए जाने पर भी है जो एक शांत साहिल
अपने बच्चों के लिए था जो सिर्फ़ एक फ्री का किसान
बेशुमार तड़प के बाद भी नही खोता वो अपनी मुस्कान

कभी वक़्त मिले तो मिलना उस जवान विधवा से
जो जीती है अपने पति को दी हुई अंतिम प्रतिगया से
अपने सास-ससुर की सेवा करती है वो आत्मा महान
खुद तन्हा होकर भी नही खोती उनके लिए अपनी प्यारी मुस्कान

कभी मन करे तो मिलना उस अपाहिज से
जो रोज़ ज़िंदगी से लड़ता है, और आँसुओ की बारिश से
जिसे मिलता है ना तो प्यार और ना ही सम्मान
जिसकी ज़िंदगी की बस रह जाती है इतनी सी पहचान
कोई फ़ायदा ले, कोई दया दे तो कोई ढूंडे उससे अपनी समस्याओ का समाधान
पर उससे किसी को कोई वास्ता नही, फिर भी वो नही खोता अपनी मुस्कान

तो बस यारो आधी रात हो चली
मैं भी अब चलता हूँ, सपनो की बारिश हो चली
बस यही कहूँगा के तुम सबसे अच्छे हो, याद रखो ओ मेरे कदरदान
और कभी मत छोड़ना, हाँ बिल्कुल यही वाली, क्यूट सी, प्यारी सी मुस्कान

For those who can’t read Hindi

Aaj apne aapko aaine me niharna
Apne rang roop ko bhale hi kuch sanwarna
Par ek khaas cheez bhagwaan ne di hai aapko O-meherbaan
Jo shringaar ki nahi mohtaaj,wo hai aapki pyaari si muskaan

Kyu ise dukho ke purse me rakhkar bhool jaate ho
Lipstick ki jagah kyu ise apne hoton par nahi lagate ho
Arre ye to samjho ke zindagi kisi ki nahi hai asaan
Har insaan jaddo-jahad me hai, paane ke liye ye muskaan

Kisi ko sehat ki hai gambheer pareshani
To kisi ko hai paiso ki kheencha taani
Kisi ko ek bhi nahi milti to kisi ke liye girlfriend banana hai asaan
Arre is sab bachpane me kyu kho dete ho apni muskaan

Kisi ke pati ne extra marital affair banaya
Badle ki bhavna me biwi ne bhi apna dharam gavaya
Mazaak ho raha hai ya tu sach me serious hai insaan ??
Lagta hai abhi koso door hai tujhse ye muskaan

Kisi ne tumhara dil toda, tum bhi kisi ka dil todo
Kisi ne tumhara sir foda, tum bhi kisi ka sir phodo
Bus marne-maarne ka hi ban gaye hain hum samaan
Bechari peeche reh gayi hai hamari pyaari si muskaan

Ladki ne dil toda to khud-khushi
Result acha na aaya to bhi khud-khushi
Saala is khud-khushi se tujhe milta to hai nahi sunehra jahan
Bus chin jaati hai to sirf tere ma-baap ke chehre ki wo ek muskaan

Desh me ho rahe hai charo taraf ghotale
Anguthachaap mantri ke bewakoof bhateeje ban rahe hain mantri saale
Lut raha hai charo taraf se apna Hindustan
Isse lado par is rajneeti me nahi bhoolna apni ye muskaan

Himmat hai to ek din us buzurg se mil
Bacho se thukraye jaane par bhi hai jo ek shaant sahil
Apne bacho ke liye tha jo sirf ek free ka kisaan
Beshumaar tadap ke baad bhi nahi khota wo apni muskaan

Kabhi waqt mile to milna us jawaan vidhwa se
Jo jeeti hai apne pati ko di hui antim pratigya se
Apne saas-sasur ki sewa karti hai wo aatma mahaan
Khud tanha hokar bhi nahi khoti unke liye apni pyaari muskaan

Kabhi man kare to milna us apahij se
Jo roz zindagi se ladta hai, aur aansuo ki baarish se
Jise milta hai na to pyaar aur na hi sammaan
Jiski zindagi ki bus reh jaati hai itni si pehchaan
Koi fayda le, koi daya de to koi dhoonde usse apni samasyao ka samadhaan
Par usse kisi ko koi vaasta nahi, fir bhi wo nahi khota apni muskaan

To bus yaaro aadhi raat ho chali
Main bhi ab chalta hu, sapno ki baarish ho chali
Bus yahi kahunga ke tum sabse ache ho, yaad rakho O mere kadardaan
Aur kabhi mat chodna, han bilkul yahi waali, cute si, pyaari si muskaan

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.