Skip to content

Pata Nahi

March 14, 2011

रिम-झिम बरसात के आगोश मे
गरजते बादलो के आक्रोश मे
सतरंगी इंद्रधनुष के रंगो को देखता हूँ
लेकिन फिर आज क्यों इस नज़ारे को देखकर उसका चेहरा याद आ गया

पता नही

बरसात तो रुक गयी
बादल भी चले गये
इंद्रधनुष भी छुप गया
पर मेरे ज़हन से उसका चेहरा कब जाएगा

पता नही

मेरी ज़िंदगी भी एक बरसात है
जिसमे बूंदे सवाल हैं और बस उन्ही की बौछार है
उस बरसात की तरह ये बरसात कब थमेगि

पता नही

मेरे प्यार को जज़्बात ना मिले कोई गम नही
मेरी मोहब्बत को इज़हार ना मिले कोई गम नही
पर मेरे इक़रार को बेइज़्ज़त्ती क्यों मिली

पता नही

मैं आज किसी से नज़रे नही मिला पाता
ज़िंदगी मे किसी और पर भरोसा नही जता पाता
आख़िर क्यों मैं पहले जैसा नही बन पाता

पता नही

वो मुझे प्यार ना दे सके, शिकायत नही
वो मुझे दो पल दे गये उसी मे ज़िंदगी जी लेंगे
पर मेरे अकेलेपन मे मेरा साथ कौन देगा

पता नही

मैं तो अकेला था पर वो दो पल हमदर्दी दे गये
मेरी तन्हाई मे वो दो पलो की खुशी और सारी उम्र का गम दे गये
पर क्या मैं सिर्फ़ हमदर्दी का ही हक़दार था

पता नही

फिर भी मैने कुछ नही चाहा
चाहा तो बस उन्हे खुश देखना चाहा
पर फिर क्यों उन्होने मेरी मोहब्बत को ज़िंदगी की बर्बादी कहा

पता नही

इतना कुछ होने के बाद, इतना कुछ खोने के बाद
मैं क्यों उसे याद करता हूँ
क्यों उसके लिए आज भी मरता हूँ

पता नही

अपने इस दर्द-ए-दिल को लिखता जाऊँगा
सुबह हो जाएगी पर शायद मैं रुक ना पाऊँगा
और आप मेरे कलाम को पढ़कर कहेंगे
कि ये बावरा हो गया है
पर मैं बहुत खुश हूँ
बस वो खुशी खुद से कब मिलेगी

पता नही
पता नही
पता नही

For those who can’t read Hindi

Rim-jhim barsaat ke aagosh me
Garajte baadlo ke akrosh me
Satrangi indradhanush k rango ko dekhta hu
Lekin fir aaj kyu is nazare ko dekhkar uska chehra yaad aagaya

PATA NAHI

Barsaat to ruk gayi
Badal bhi chale gaye
Indradhanush bhi chup gaya
Par mere zahan se uska chehra kab jayega

PATA NAHI

Meri zindagi bhi ek barsaaat hai
Jisme boonde sawaal hain aur bus unhi ki bauchaar hai
Us barsaat ki tarah ye barsaat kab thamegi

PATA NAHI

Mere pyaar ko jazbaat na mile koi gam nahi
Meri mohabbat ko izhaar na mile koi gam nahi
Par mere iqraar ko beizzatti kyu mili

PATA NAHI

Main aaj kisi se nazre nahi mila pata
Zindagi me kisi aur par bharosa nahi jata pata
Akhir kyu main pehle jaisa nahi ban pata

PATA NAHI

Wo mujhe pyaar na de sake, shikayat nahi
Wo mujhe do pal de gaye usi me zindagi jee lenge
Par mere akelepan me mera saath kaun dega

PATA NAHI

Main to akela tha par wo do pal hamdardi de gaye
Meri tanhai me wo do palo ki khushi aur saari umra ka gam de gaye
Par kya main sirf humdardi ka hi haqdaaar tha

PATA NAHI

Fir bhi maine kuch nahi chaha
Chaha to bus unhe khush dekhna chaha
Par fir kyu unhone meri mohabbat ko zindagi ki barbaadi kaha

PATA NAHI

Itna kuch hone k baad, itna kuch khone k baad
Main kyu use yaad karta hu
Kyu uske liye aaj bhi marta hu

PATA NAHI

Apne is dar-e-dil ko likhta jaunga
Subah ho jayegi par shayad main ruk na paunga
Aur aap mere kalaam ko padhkar kahenge
Ke yeh bawra ho gaya hai
Par main bahut khush hu
Bus wo khushi khud se kab milegi

PATA NAHI
PATA NAHI
PATA NAHI

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.