Skip to content

Ye Aansu Piye Ja Raha Hu

September 18, 2011

तन्हाई का आलम कुछ इस क़दर छाया है
इश्क़ के सबब ने कुछ ऐसा रुलाया है
जीने का मन तो नही फिर भी जिए जा रहा हूँ
ग़म के ये आँसू बस पिए जा रहा हूँ

अश्कों से भर चुकी है मेरी कविताओं की किताब
ग़म-ए-मोहब्बत मे इन्हे बहा चुका हूँ बे-हिसाब
फिर भी इस झूठी हँसी से ज़िंदगी जिए जा रहा हूँ
और चुप-चाप बस ये आँसू पिए जा रहा हूँ

कहते हैं हर रात के बाद सवेरा आता है
ग़म के बाद खुशियो का बसेरा आता है
मेरी उम्मीद तोड़ने वालो, मैं फिर भी एक लौ लिए जा रहा हूँ
और चुप-चाप बस ये आँसू पिए जा रहा हूँ

प्यार के लायक ना था तो मुझे पुकारा ना होता
खेल ही खेलना था तो मुझे संभाला ना होता
इस दगा-बाज़ी को बर्दाश्त किए जा रहा हूँ
और चुप-चाप बस ये आँसू पिए जा रहा हूँ

इस दुनिया से अब मैं दूर हो रहा हूँ
चुप रहने को मजबूर हो रहा हूँ
बस इन होटो को मैं अब सीए जा रहा हूँ
खुद की खुदी मे मस्त होकर ये आँसू पिए जा रहा हूँ

पर हार मानना मेरी आदत मे नही
मैं खुद को खो दूं, ये ताक़त तेरी इबादत मे नही
धोका मिलने पर भी मैं तुझसे प्यार किए जा रहा हूँ
और चुप-चाप बस ये आँसू पिए जा रहा हूँ

दुआ है वो मेरे जनाज़े पर ज़रूर आए
मरने के बाद ही सही, उसका दीदार हो जाए
मेरी रूह उससे कहेगी
“तेरे लिए आज भी दुआएँ छोड़े जा रहा हूँ,
और तेरे हिस्से के आँसू भी अपने साथ लिए जा रहा हूँ”
बस चुप-चाप ये आँसू पिए जा रहा हूँ

बस चुप-चाप ये आँसू पिए जा रहा हूँ
बस चुप-चाप ये आँसू पिए जा रहा हूँ

For those who can’t read Hindi

Tanhai ka aalam kuch is qadar chaya hai
Ishq ke sabab ne kuch aisa rulaya hai
Jeene ka mann to nahi fir bhi jiye ja raha hu
Gum ke ye aansu bus piye ja raha hu

Ashqo se bhar chuki hai meri kavitaao ki kitaab
Gham-e-mohabbat me inhe baha chuka hu be-hisaab
Fir bhi is jhooty hansi se zindagi jiye ja raha hu
Aur chup-chaap bus ye aansu piye ja raha hu

Kehte hain har raat ke baad savera aata hai
Gham ke baad khushiyo ka basera aata hai
Meri umeed todne waalo, main fir bhi ek lau liye ja raha hu
Aur chup-chaap bus ye aansu piye ja raha hu

Pyaar ke layak na tha to mujhe pukara na hota
Khel hi khelna tha to mujhe sambhala na hota
Is daga-baazi ko bardaasht kiye ja raha hu
Aur chup-chaap bus ye aansu piye ja raha hu

Is duniya se ab main door ho raha hu
Chup rehne ko majboor ho raha hu
Bus in hoton ko main ab siye ja raha hu
Khud ki khudi me mast hokar ye aansu piye ja raha hu

Par haar maanna meri aadat me nahi
Main khud ko kho du, ye takat teri ibaadat me nahi
Dhoka milne par bhi main tujhse pyaar kiye ja raha hu
Aur chup-chaap bus ye aansu piye ja raha hu

Dua hai wo mere janaaze par zaroor aaye
Marne ke baad hi sahi, uska deedar ho jaaye
Meri rooh usse kahegi
“Tere liye aaj bhi duaaye chode ja raha hu,
Aur tere hisse ke aansu bhi apne saath liye ja raha hu”
Bus chup-chaap ye aansu piye ja raha hu

Bus chup-chaap ye aansu piye ja raha hu
Bus chup-chaap ye aansu piye ja raha hu

Comments

Tell us what do you think.

There are no comments on this entry.

Trackbacks

Websites mentioned my entry.

There are no trackbacks on this entry

Add a Comment

Fill in the form and submit.